आधार केंद्र बहाल करवाने के लिए 25 हजार मांग रहा था UIDAI का मैनेजर, CBI ने जाल बिछाकर 2 को किया अरेस्ट

आधार केंद्र बहाल करवाने के लिए 25 हजार मांग रहा था UIDAI का मैनेजर, CBI ने जाल बिछाकर 2 को किया अरेस्ट

नई दिल्ली: CBI ने रिश्वतखोरी (Corruption) के आरोप में UIDAI के असिस्टेंट मैनेजर समेत दो लोगों को गिरफ्तार किया है. आरोप है कि वे दोनों बंद हो चुके आधार सेवा केंद्र को दोबारा चालू करने के नाम पर 25 हजार रुपये रिश्वत मांग रहे थे. 

आधार केंद्र संचालक ने दी थी शिकायत

जानकारी के मुताबिक राजस्थान (Rajasthan) के जिला अलवर के गांव बहादुरपुर के शाहरूख खान ने CBI को कंप्लेंट दी थी.  शाहरूख खान ने शिकायत में कहा था कि उसके आधार केन्द्र ‘भारत निर्माण राजीव गांधी सेवा केन्द्र’ को बिना बताए मार्च 2021 में बंद कर दिया गया. जबकि वो इस सेवा केन्द्र को साल 2015 से चला रहा था और UIDAI की तरफ से जारी सभी निर्देशों का पालन कर रहा था. 

सेंटर बहाल करवाने के मांगे 25 हजार रुपये

जब वो केंद्र बंद होने का कारण जानने के लिये एजेंसी से मिला तो बताया गया कि भ्रष्ट्राचार की शिकायत के कारण उसका सेंटर बंद किया गया है. वहीं पर उसे बताया गया कि केन्द्र को फिर से शुरू करने के लिये जयपुर में Tanwar Complete Service के मालिक हेमराज तंवर से मिले. जब शाहरूख खान हेमराज तंवर से मिला तो उसने आधार के अधिकारियों से केन्द्र को दोबारा सेंटर शुरू करवाने के बदले 25 हजार रुपये की मांग की.

CBI ने राजस्थान सरकार से मांगी मंजूरी

प्रथम दृष्टया शिकायत सही पाए जाने के बाद CBI ने मामले की जांच शुरू तो की लेकिन एक तकनीकी दिक्कत सामने आ गई. दरअसल मामला राजस्थान (Rajasthan) से जुड़ा हुआ था और राज्य सरकार बिना इजाजत जांच की मंजूरी को वापस ले चुकी थी. ऐसे में जांच की मंजूरी के लिए पहले राज्य सरकार को लिखा गया. वहां से मंजूरी मिलने के बाद जांच को आगे बढाया गया.

मामले में दो आरोपियों को पकड़ा गया

जांच में पता चला कि हेमराज तंवर UIDAI में काम करने वाले असिस्टेंट मैनेजर जयप्रकाश गुप्ता के लिये काम करता है. हेमराज तंवर ने उसी के कहने पर ये 25 हजार की मांग की थी. CBI ने इसके बाद जाल बिछाया और शाहरूख खान को पैसे देकर आरोपी के पास भेजा. हेमराज तंवर ने जैसे ही पैसे पकड़े, सीबीआई टीम ने उसे रंगे हाथों धर दबोचा. 

ये भी पढ़ें- अभिनेता Dino Morea और दिवंगत कांग्रेस नेता Ahmed Patel के दामाद की संपत्ति मनी लॉन्ड्रिंग केस में जब्त, ED ने की कार्रवाई

जांच में पता चला है कि जयप्रकाश गुप्ता नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्मार्ट गर्वमेंट, हैदराबाद में काम करता है. UIDAI के साथ हुए करार के तहत वह स्टेट रिसोर्स पर्सन के तौर पर काम रहा था. लेकिन अपने गलत कारनामों की वजह से अब सलाखों के पीछे पहुंच गया.

LIVE TV

Source link

I am only use feed rss url of the following postowner. i am not writter,owner, of the following content or post all credit goes to Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
%d bloggers like this: