क्यों बौखला जाते हैं Virat Kohli? ICC टूर्नामेंट में कप्तान की नाकामी की ये है बड़ी वजह

क्यों बौखला जाते हैं Virat Kohli? ICC टूर्नामेंट में कप्तान की नाकामी की ये है बड़ी वजह

नई दिल्ली: वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप (World Test Championship) के फाइनल की हार के बाद अब भारतीय टीम 4 अगस्त से इंग्लैंड के खिलाफ शुरू हो रही पांच मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए तैयारियां करेगी. इससे पहले टीम के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) बोखलाए गए हैं. जिसकी बड़ी वजह है शुभमन गिल (Shubman Gill) के चोटिल होने के बाद उनका रिप्लेसमेंट.

क्यों बौखला जाते हैं विराट कोहली?

दरअसल टीम मैंनेजमेंट ने सिलेक्टर्स से शुभमन गिल (Shubman Gill) के रिप्लेसमेंट की मांग की थी. विराट कोहली (Virat Kohli) की इस मांग के बाद भी सिलेक्टर्स ने गिल की जगह किसी भी खिलाड़ी को इंग्लैंड लाने से इंकार कर दिया है. बताया जा रहा है कि देवदत्त पडिक्कल (Devdutt Padikkal) और पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) इस वक्त श्रीलंका में हैं और इन दो खिलाड़ियों को गिल के रिप्लेसमेंट के तौर पर देखा जा रहा है.

लेकिन सवाल ये है कि केएल राहुल (KL Rahul) और मयंक (Mayank Agarwal) के इंग्लैंड होने के बावजूद भी क्यों किसी और को लाने की बात हो रही है. इन खिलाड़ियों के पास अनुभव भी है और टैलेंट भी. उसके बाद भी कोहली (Virat Kohli) को युवा खिलाड़ी शॉ और अब तक भारत के लिए डेब्यू न करने वाले पडिक्कल पर ज्यादा भरोसा है.

इसलिए नहीं जीत पाते कोई बड़ा टूर्नामेंट!

विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया अब तक कोई आईसीसी टूर्नामेंट नहीं जीत सकी है और इसकी एक बड़ी वजह है टीम में लगातार बदलाव करना. कोई खिलाड़ी एक जगह पर टिक नहीं पाता, साथ ही खिलाड़ियों के मन में ये भी रहता होगा कि कब उन्हें टीम से बाहर कर दिया जाएगा और ऐसा हो भी क्यों ना, कोहली मुकाबला हारते ही टीम में बदलाव कर देते हैं. ऐसे में खिलाड़ियों के अंदर असुरक्षा की भावना रहती है, जिससे खिलाड़ी दवाब में खेलता है. केएल राहुल जैसे बड़े खिलाड़ी के होते हुए भी शॉ को टीम में लाने की बात करना हैरान कर देने वाला हो और वो भी तब, जब पहले विराट ने शॉ को एक मैच के खराब प्रदर्शन के बाद बाहर का रास्ता दिखाया था.

शानदार बल्लेबाज हैं केएल राहुल 

केएल राहुल दूसरी बार इंग्लैंड का दौरा कर रहे हैं. टॉप ऑर्डर भारत की ताकत रहा है, जो टेस्ट मैचों में लगातार फ्लॉप हो रहा है. केएल राहुल शुभमन गिल से बेहतर बल्लेबाज हैं, जो खुलकर बल्लेबाजी करने में माहिर हैं. राहुल ने भारत के लिए अपना आखिरी टेस्ट साल 2019 में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था, जिसका बाद से वह टेस्ट टीम में अपनी जगह बनाने में सफल नहीं हो सके हैं. राहुल की लिमिटेड ओवर क्रिकेट में फॉर्म काफी शानदार है.

मयंक अग्रवाल के पास है अनुभव 

मयंक अग्रवाल के नाम टेस्ट में 1000 से ज्यादा रन हैं और उनका औसत भी 45.73 का रहा है. मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) के पास टेस्ट क्रिकेट के अच्छा अनुभव है. ओपनिंग में शुभमन गिल (Shubman Gill) की जगह मयंक अग्रवाल बेहतर विकल्प हो सकते हैं. शुभमन गिल ने अपने टेस्ट करियर में अब तक 8 मैचों में 414 रन बनाए हैं. इस दौरान उनका औसत 31.84 रहा है.

 

Source link

I am only use feed rss url of the following postowner. i am not writter,owner, of the following content or post all credit goes to Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
%d bloggers like this: