MP Information: राज्यपाल ने किए महाकाल के दर्शन, मांगी दुनिया की खुशहाली, सेवाधाम आश्रम को भेंट करेंगे मेडिकल उपकरण

MP Information: राज्यपाल ने किए महाकाल के दर्शन, मांगी दुनिया की खुशहाली, सेवाधाम आश्रम को भेंट करेंगे मेडिकल उपकरण

उज्जैन. मध्य प्रदेश के नए राज्यपाल मंगूभाई छगनभाई पटेल ने शनिवार को महाकाल के दर्शन किए. इस दौरान उन्होंने भगवान महाकाल से दुनिया की खुशहाली की प्रार्थना की. उनके साथ साथ मंत्री मोहन यादव सहित कई नेता मौजूद थे. राज्यपाल ने कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए बेरिकेटिंग के बाहर से भगवान महाकाल के दर्शन किए. उन्होंने यहां करीब 15 मिनट पूजा की और उसके बाद सेवा धाम आश्रम, ग्राम अंबोदिया रवाना हो गए.

राज्यपाल मंगूभाई छगन भाई पटेल के साथ उनके परिवार के सदस्य भी मौजूद थे. उन्होंने यहां आश्रम में गाय को रोटी खिलाई और जय श्री राम के जयकारे भी लगाए. इसके बाद उन्होंने परिसर मे पौधरोपण भी किया. इसके बाद राज्यपाल स्थानीय कार्यक्रम में शामिल होने अंबोदिया स्थित सेवाधाम आश्रम के लिए रवाना हुए. वहां वे 15 लाख रुपए से ज्यादा कीमत के उपकरण और अन्य सामग्री भेंट करेंगे.  राज्यपाल सेवाधाम में मेडिकल उपकरण, फ्रिज, वॉशिंग मशीन जैसी अनेक उपयोगी वस्तुएं आश्रम को भेंट करेंगे.

उज्जैन की इस खबर पर भी डालें नजर

मध्य प्रदेश के उज्जैन से बड़ी खबर है. यहां शनिचरी अमावस्या पर प्रशासन के मना करने के बावजूद लोग घाटों पर भारी भीड़ पहुंच गई. किसी भी श्रद्धालु को शिप्रा नदी के त्रिवेणी और राम घाट पर स्नान की इजाजत नहीं थी. लेकिन, लोग नहीं माने. शनिवार को सुबह  देखते ही देखते घाटों पर भीड़ जुटना शुरू हो गई और लोगों ने स्नान किया. गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण के चलते कलेक्टर ने दो दिन पहले ही आदेश जारी कर स्नान और भीड़ इकट्ठी करने पर प्रतिबंध लगा दिया था.

दो बार अमावस्या से हो सकती थी ज्यादा भीड़

प्रशासन एक दिन पहले तक सचेत भी दिखाई दिया. क्योंकि, इस बार दो अमावस्या होने से ग्रामीण क्षेत्र के श्रद्धालुओं की भीड़ की संभावना ज्यादा थी. इसीके मद्देनजर शिप्रा नदी के राम घाट और त्रिवेणी घाट पर श्रद्धालुओं के आने पर प्रतिबंध लगा दिया था. प्रशासन ने घाट की ओर जाने वाले रास्तों पर बैरिकेड भी लगा दिए, लेकिन लोगों पर इसका कोई असर नहीं पड़ा. लोगों ने कोरोना गाइडलाइन की जमकर धज्जियां उड़ाईं और स्नान किया. हालांकि, कई जगह पुलिसकर्मी तैनात थे, जो समय-समय पर लोगों को जागर सावधान कर रहे थे. लेकिन, इतनी भीड़ के कारण वे बेबस ही नजर आए.

Source link

I am only use feed rss url of the following postowner. i am not writter,owner, of the following content or post all credit goes to Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
%d bloggers like this: